Aar Par Ho Jane Do …..


मैंने देखा हैं सागर में भीगे सूरज को नहाते हुए
उसी गुम्बद पर, जहा मेरा घर था ,तारो को बतियातें हुए ,
वहां हवा भी आकर बहुत इठलाती थी
दामन में अपने ,सात समुंदर की खुशबु भर लाती थी ….

वो भारत का ‘ताज ‘ था
कहतें है ,मेरे देश की संस्कृति का आगाज था ,
इस ईमारत को पता था , न हिन्दू का ना मुस्लमान का
न इल्म था ,गीता का ना कुरान का ….

उसके पास ही हम लोगो की सुबह खिलती थी
एक नन्ही सी लड़की ,हाथो में दाने लिए रोज मिलती थी ,
बड़े चेन से हम लोग खुशिया मनाते
जरा सी आहट पर, मीलो दूर उड़ जातें
फिर वही आकर बैठ जातें , उसी लाल गुम्बद पर ….

जहाँ आज सिर्फ बारूदों के निशान सने है
हर दिशा में , सिर्फ और सिर्फ श्मशान बने है ,
आज चीख रही है दीवारे ,कोई उन्हें उनका दोष बता दे
जिस आँगन ने खून पिया ,उसे अपना रोष बता दे ….

क्या इतना ही अपराध ….वो समरस हो अपनाती गयी
मिलता रहा जो राहों में ,सबको गले लगाती गयी ,
आज वही संगीने गाढ़ चुके हैं उसके दामन में
जो खेले, पले- बढे , रहे ,उसके आँगन में …..

आज वही आतंक को ‘जेहाद’ बना कर घूम रहे
भारत माता की छाती पर ‘पाक’ ध्वजा को चूम रहे ,
आज एक बार फिर , ‘कायर’, माँ को ललकार गए है
सयंम के मन के तारो को, फिर एक बार झंकार गए है ….

सयंम बहुत हुआ अर्जुन , अब गांडीव उठा लो
विश्व पटल से ,’आतंकी देश’ का नामोनिशान मिटा दो,
बस एक बार अब , बंद तोपों का मुह खुल जाने दो
जो होगा भाग्य समर्पित , आर पार हो जाने दो …..

Advertisements

5 thoughts on “Aar Par Ho Jane Do …..

  1. Very nicely written. My blood boils too for what happened in India.

    But eliminating a nation is not the solution. Effective intelligence and defence is. It is a much cheaper option and better for all. Not all people are bad in “Antaki Desh”. Some elements are who need to be isolated and dealt with. Just like we treat disease in our bodies, we should treat this threat.

  2. Ya Ron ……You are right !!!

    hav u seen the press release of pakistan Govt ….They said ” Is mudde par hum sab kaum ek hai ” . In my view kaum(religion) and terrorism are both exclusive . If the nation take the terrorism as a religion attack .then there are onle few solution exist . Either we hav to attack on the terrorist camps or ready for a war !!!

    As defence is concern ,it is very difficult to provide security for each and every place of this highly polulated country . If u see ,Intelligence was not failure for mumbai attack . Various agencies had warned police abt it .

  3. har ghar mai inkalab gunja denge har ek ke muh se inklab bulwa denge agar ki pakistan ne mere bharat ko todne ki koshish to inkalab se dhoom macha denge

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s