शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक


आह को चाहिए इक ‘उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होने तक ?

दाम हर मौज में है हल्का-ऐ-साद_काम-ऐ नहंग
देखें क्या गुज़रे है कतरे पे गुहर होने तक
[ दाम = net/trap, mauj = wav-e, हल्का = ring/circle, साद = hundred,
नहंग = crocadile, साद_काम-ऐ नहंग = crocadile with a hundred jaws, गुहर = pearl ]

आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करुँ खून-ऐ-जिगर होने तक ?
[ सब्र = patience, तलब = search ]

हम ने माना के तग़ःअफ़ुल न करोगे , लेकिन
ख़ाक हो जायेंगे हम तुमको खबर होने तक
[ तग़ःअफ़ुल = neglect/ignore ]

परतव-ऐ-खुर से है शबनम को फना की तालीम
मैं भी हूँ इक इनायत की नज़र होने तक
[परतव-ऐ-खुर = sun’s reflection/light/image, शबनम = dew,
फना = mortality, इनायत = favour ]

यक_नज़र बेश नहीं फुर्सत-ऐ-हस्ती ग़ःआफ़िल
गर्मी-ऐ-बज्म है इक रक्स-ऐ-शरार होने तक
[ बेश = too much/lots, फुर्सत-ऐ-हस्ती = duration of life,
ग़ःआफ़िल = careless, रक्स = dance, शरार = flash/fire ]

ग़म-ऐ-हस्ती का ‘असद’ किससे हो जुज़ मर्ग इलाज़
शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक
[ हस्ती = life/existence, जुज़ = other than, मर्ग = death, सहर = morning ]

Advertisements

One thought on “शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक

  1. Hi. Awesome blog with great content. I’m seriously in love with the way you write articles. I mean i can imagine the way your mind things when you sit in from of your computer and start pouring your heart. Anyways I’m HS Sandesh from Bangalore and it would be my privilege to have your link on my site. Can we exchange Links..?? Have Fun..CHEERS

    “message.blog.co.in”

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s