भूख !!!


आज फिर उसी ट्रेफिक सिग्नल पर
जहाँ पर आकर मेरी हर शाम रूकती है
कुछ दो तीन मिनट के लिए ….
और पढ़ा जाती है जाने कितने ही अनजाने पहलू

आज सब कुछ अजीब सा था
भीगा हुआ तन,कान में ईअर-फोन
मन में किसी का ख्याल…..
और तभी किसी ने आकर जैसे मुझे छुआ
नन्ही सी हथेली को आगे बढ़ा,वो बोली –
दो रूपये दे दे भाई,भूख लगी है

उसकी फाक सफ़ेद आँखें
जैसे चुनोती दे रही हो, सपनो को ठहरने की
उन बेजान आँखों में कुछ नहीं था
न कोई रंग,न कोई आस
कुछ था तो वो थी रोटी की भूख
और बारिश में और भी ज्यादा तेज होती पेट की आग

साथ में ख्याल
उस नन्हे से बच्चे का
जिसके शरीर पर कपडे की कुछ कतरने
जैसे शायद बारिश और भूख दोनों से लड़ने की
हिम्मत नहीं जुटा पा रही थी

ये वही लोग है
जिनकी गाथा राजस्थान की मिटटी आज तलक गाती है
जिनकी सौगंध के किस्से
आज भी दिलो में जोश भर जाते है
जिन्होंने कसमें खायी थी,कभी न घर बनाने की
और न कभी मांग कर खाने की

आन की खातिर
जिन्होंने घास की रोटी तक खायी
वही आज चौराहों पर इज्ज़त बेच
दो जून की रोटी मांगते है

सच है, भूख इतिहास से बड़ी होती है
हर कसम से,हर वक़्त से बड़ी
हर एक एहसास और हर बलिदान से बड़ी होती है……

Advertisements

5 thoughts on “भूख !!!

  1. awesome bhaiya, me samajh sakta hu apka ishara..lekin….koi apni marzee se ye sab nahi karta hai..unhe majbor kiya jata hai…!!
    agar ye log chahe to apne aap ke liye lad sakte hai..lekin inhe in cheezo ki adat ho jaati hai

  2. haan sach hi bhuk itihaas se hamesha badi hoti hi…….per is me v afsosjanak ,ki ham kai baar chaah ke v kuch nahi kar pate..or maul sanskriti ke dour me to shyad ham sabko bas apne aage jane ki jaldi hi…..

  3. नियति कहाँ खो गया इन्सान का वो स्वाभिमान,
    डूबते मांझी में अब वो जज्बा दिखाई नहीं देता.

  4. As far as poem is concerned … well formed 🙂 . Great going.

    The thing I really liked in this poem is, you tried to picturize a common situation when 2 totally different life style persons meet. One who doesnt even need to think about his daily wages and one who needs to think about even for his today’s meal.

    And i think its not about ‘only’ bhookh (hunger). Even wealthy people who belong to the same community, how many of them cares for their traditions and all.
    People put their self respect aside to get their work done. Some of them do, but not till the extent their ancestors have done. Its happening because the way of thinking is changing. Nobody cares what others are thinking about him. They do, what they find easy and necessary to do.

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s