मेरी आँखों में आकर अश्क भरे कोई….


वो दें कुछ जज्बात तो, ग़ज़ल करे कोई
मेरी आँखों में आकर, अश्क भरे कोई

कब तक छुप छुप कर मिलोगे यूँ ही
बैखोफ इश्क है,क्यूँ ज़माने से डरे कोई

वो जो देखे है तो, नज़र जिगर तक उतरे
फिर उन मतवारी आँखों पे,क्यूँ न मरे कोई

मोहब्बत ने कुछ इस कदर सिखाया हमको
जैसे डूब दरिया में,सागर से तरे कोई

अब रोको मत,सज लेने दो मुझको ‘शादाब’
नर्गिस-ऐ-बीमार है,फिर क्यूँ न संवरे कोई

Advertisements

4 thoughts on “मेरी आँखों में आकर अश्क भरे कोई….

  1. एक शादाब तू सुखनवर है जो वफ़ा के शज़र लगाता है,
    ख़ाक मोहब्बत ज़माना करेगा, जो सिर्फ नफ़रत निभाता है |

  2. karta hai ashq ki baatein kaafir aaj zamane se…
    teri aankhoon ke shailaab se kaise, mohhabat kare koi…
    tu gar shaadab hai, kyun na tujhse pare koi…
    ruh-e-wehshat se mohhabat kaise kare koi…

  3. Kuch unki ashko ka soch jinhone wafa ki misaal banaai tere liye…
    unki aankhoon ka ashq kaise kam kare koi…
    teri chahhat ki janzeer se jakdi teri aakansha tu…
    teri aankhoon mein kyun ashq bhare koi….

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s