एक मदहोशी है …


तेरी आँखों से जो ये अश्क गिरते है
मेरे सीने में वो,गहरे से उतरते हैं

एक मदहोशी है, उनके प्यार में ऐ-दिल
मेरी बगिया में आके,वो यूँ महकते है

हम तो इश्क में डूबे है,मजनू की तरह
ये नादान लोग,हमें पागल समझते है

मैं कही उनको भूल ना जाऊ कभी
इसलिए वो, मेरे दिल में धड़कते है

ना जाने कौनसा रिश्ता है, तुझसे मेरा
यूँ ही नहीं,तेरे दर्द, मेरे सीने में पिगलते है

Advertisements

One thought on “एक मदहोशी है …

  1. Well kya taareef karoon …
    Shabdon ke yun khanjar banana to koi aap se seekhe …
    seedhe seene mein uthar jaate hain …
    par ab kuch to badata raha hai …
    jam per jaam pee rahe hain, ki kisi tarah dard pighale,
    kuch aanson ban jaaye
    kuch kalam ki syaahi ..
    koi to sada pahunche un tak…
    dekhoon kabhi chehara wohi

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s