बात इतनी सी हो


बात इतनी सी हो कि,बस बात हो जाये
एक बार फिर उनसे कही, मुलाकात हो जाये
.
इक उम्र से देखा ही नहीं,सावन मैंने
तेरी आँखों से मिलूं,और, बरसात हो जाये
.
बड़ी मुश्किल से हैं,नूर-ऐ-चारागा रोशन
जल जाने दो मुझको कि,न तर्क रात हो जाये
.
थक गया हूँ मिलकर ,जुदा हो होकर
अब के कुछ ऐसे मिलूं ,कि कायनात हो जाये
Advertisements

2 thoughts on “बात इतनी सी हो

  1. पढ़ कर बात इतनी सी , लगता है दर्द बहुत है सीने मे|
    लंबी जुदाई है और मीलन की तड़प है सीने मे ||
    जो रहा है , जो चाह है , पूरी हो आपकी |
    आपकी कलम इतनी ताकत है की , आपकी तक़दीर बदल डालेगी |

Your feedback is very important for me ..please leave a comment !!!

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s